Android डिवाइस की कॉन्फ़िगरेशन सेवा के बारे में जानकारी

Android की डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा, समय-समय पर Android डिवाइस से Google को डेटा भेजती है. इस डेटा से Google को पता चलता है कि आपका डिवाइस अप-टू-डेट है और सही तरह से काम कर रहा है. 

इकट्ठा किया जाने वाला डेटा

Android की डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा की मदद से, Android डिवाइसों से जानकारी इकट्ठा की जाती है. जैसे:

  • डिवाइस और खाते की पहचान बताने वाला डेटा
  • डिवाइस की विशेषताएं
  • सॉफ़्टवेयर और सुरक्षा सॉफ़्टवेयर के वर्शन
  • नेटवर्क की कनेक्‍टिविटी (कनेक्शन की स्थिति) और परफ़ॉर्मेंस का डेटा

डिवाइस आम तौर पर नियमित रूप से कुछ दिनों के बाद 'Android डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा' से जुड़ जाते हैं. Android की डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा, आपके Android डिवाइस से भेजी गई जानकारी की सिर्फ़ नई कॉपी रखती है. जब आपका डिवाइस कोई जानकारी भेजता है, तो यह सेवा टाइमस्टैंप जैसे कुछ डेटा को छोड़कर, बाकी के पुराने डेटा की जगह नई जानकारी सेव कर लेती है.

Google इस डेटा का क्या करता है

Android की डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा की मदद से इकट्ठा किए गए डेटा का इस्तेमाल, हम कई तरह से करते हैं. जैसे:

  • यह पक्का करने में मदद करने के लिए कि आपके डिवाइस पर सॉफ़्टवेयर अपडेट और सुरक्षा पैच मिल रहे हैं: उदाहरण के लिए, आपके डिवाइस के सुरक्षा पैच लेवल का इस्तेमाल करके यह तय किया जाता है कि आपके डिवाइस को अपडेट की ज़रूरत है या नहीं.
  • अलग-अलग विशेषताओं और सॉफ़्टवेयर वाले कई तरह के Android डिवाइसों पर ऐप्लिकेशन और सेवाओं का एक जैसा अनुभव के लिए: उदाहरण के लिए, Google Play, स्क्रीन लेआउट जैसी विशेषताओं के आधार पर, आपके डिवाइस पर काम करने वाले सॉफ़्टवेयर वर्शन के सुझाव दे सकता है.
  • आपके डिवाइस और Android नेटवर्क को धोखाधड़ी, गलत इस्तेमाल और दूसरे नुकसान से बचाने के लिए: उदाहरण के लिए, हम आपके खाते की सुरक्षा के लिए डिवाइस की पहचान करने वाली सुविधा का इस्तेमाल करते हैं. इसके ज़रिए, ऐसे लॉग इन के बारे में पता लगाया जाता है जिसके पीछे गलत नीयत हो सकती है.
  • Android डिवाइसों से जुड़े सभी आंकड़े अपने पास रखने के लिए: उदाहरण के लिए, आपके डिवाइस, मोबाइल नेटवर्क से कैसे कनेक्ट होते हैं, यह जानने के लिए हम आपके डेटा का इस्तेमाल करते हैं. ऐसा करके, हम आपको बेहतर कनेक्शन और बैटरी लाइफ़, दोनों का एक बेहतर संतुलन देने की कोशिश करते हैं. आपके डेटा का इस्तेमाल करते समय हम यह पक्का करते हैं कि आपकी पहचान छिपी रहे.

क्या यह डेटा मिटाया जा सकता है?

डिवाइस को सही तरीके से चलाने और अपडेट करने के लिए, Android की डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा का डेटा अहम है. इसलिए, डिवाइस का इस्तेमाल करते समय, इसमें मौजूद डेटा मिटाया नहीं जा सकता. 'Android डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा' Google की निजता नीति का पालन करती है.

अगर आप अपने Google खाते से साइन आउट कर लेते हैं या अपने Android डिवाइस से इसे पूरी तरह मिटा देते हैं तो, कॉन्फ़िगरेशन की जानकारी आपके Google खाते से अलग हो जाएगी. कुछ दिनों तक कोई गतिविधि न होने पर, Android की डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा की मदद से आपका डेटा अपने-आप मिटा दिया जाएगा.

पता लगाएं कि Android की डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा किस तरह का डेटा इकट्ठा करती है

आपके Google खाते से जुड़ी, Android की डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा का डेटा डाउनलोड किया जा सकता है. अपना डेटा डाउनलोड करने के बारे में ज़्यादा जानें.

  1. अपना डेटा डाउनलोड करें पेज पर जाएं.
  2. Android डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा चुनें. ऐसा करने से आपके खाते से जुड़े सभी डिवाइस का डेटा शामिल कर लिया जाएगा.
  3. आगे बढ़ें पर क्लिक करें.
  4. 'संग्रह' के लिए विकल्प चुनें.
  5. संग्रह बनाएं पर क्लिक करें.

इकट्ठा किए गए डेटा की कैटगरी

Android की डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा की मदद से इकट्ठा किए गए डेटा और उसके इस्तेमाल के कुछ उदाहरण यहां दिए गए हैं:

श्रेणी

डेटा के उदाहरण

Google इस डेटा का इस्तेमाल कैसे करता है

डिवाइस और खाते की पहचान करने वाला
  • आईएमईआई, एमईआईडी और ईएसएन नंबर
  • डिवाइस का सीरियल नंबर
  • Google की सेवाओं के फ़्रेमवर्क का Android आईडी (या "Android आई़डी") ध्यान दें: यह आईडी, सेटिंग को सुरक्षित बनाने वाले Android ID से अलग होता है.
  • Google खाता (जब यह चालू होता है)*
  • एमएसी (मीडिया एक्सेस कंट्रोल) पते
आपके खाते की सुरक्षा के लिए हम डिवाइस की पहचान करने वाली जानकारी इस्तेमाल करते हैं. इसकी मदद से, ऐसे लॉग इन के बारे में पता लगाया जाता है जिसके पीछे गलत नीयत हो सकती है.
डिवाइस की विशेषताएं
  • हार्डवेयर का प्रकार
  • उत्पाद
  • मॉडल
  • डिवाइस बनाने वाली कंपनी
  • जिन प्लैटफ़ॉर्म/सीपीयू प्रकार पर काम करता है
  • कीबोर्ड, नेविगेशन और स्क्रीन लेआउट के प्रकार
  • स्क्रीन का आकार (पिक्सेल में ऊंचाई और चौड़ाई)
  • कुल मेमोरी
  • जगह
  • समय क्षेत्र
Google Play, स्क्रीन लेआउट जैसी विशेषताओं के आधार पर आपके डिवाइस के लिए सबसे सही सॉफ़्टवेयर वर्शन का सुझाव दे सकता है.
सिस्टम और सुरक्षा सॉफ़्टवेयर के वर्शन
  • ओएस बिल्ड स्ट्रिंग (इसे ओएस बिल्ड फ़िंगरप्रिंट भी कहा जाता है)
  • OS बिल्ड टाइमस्‍टैम्प
  • Android का वर्शन
  • Google सेवाओं का वर्शन
आपके डिवाइस के सुरक्षा पैच लेवल का इस्तेमाल करके तय किया जाता है कि आपके डिवाइस को अपडेट की ज़रूरत है या नहीं.
नेटवर्क की कनेक्‍टिविटी (कनेक्शन की स्थिति) और परफ़ॉर्मेंस
  • सिम और मोबाइल ऑपरेटर
  • आईपी पता
  • सिम से जुड़ा डेटा (सिम ऑपरेटर एमसीसी/एमएनसी, मोबाइल और इंटरनेट सेवा देने वाली कंपनी का नाम, रोमिंग में है या नहीं, सिम के लिए डिफ़ॉल्ट काम, आखिर के 5 अंकों के बिना आईएमएसआई, समूह आईडी लेवल 1)
  • 'Android डिवाइस कॉन्फ़िगरेशन सेवा' के आखिरी 50 कॉन्फ़िगरेशन कनेक्शन के लिए टाइमस्टैम्प और बिल्ड में बदलाव के साथ आखिरी 10 कनेक्शन की बिल्ड जानकारी
  • पिछले 10 कॉन्फ़िगरेशन कनेक्शन जो जुड़ नहीं पाए थे, उनके टाइमस्टैम्प और एचटीटीपी रिस्पॉन्स कोड
आपके डिवाइस, मोबाइल नेटवर्क से कैसे कनेक्ट होते हैं, यह जानने के लिए हम आपके डेटा का इस्तेमाल करते हैं. ऐसा करके, हम आपको बेहतर कनेक्शन और बैटरी लाइफ़, दोनों का एक बेहतर संतुलन देने की कोशिश करते हैं. आपके डेटा का इस्तेमाल करते समय हम यह पक्का करते हैं कि आपकी पहचान छिपी रहे.


*अगर किसी डिवाइस पर एक से ज़्यादा खातों से साइन इन किया गया है, तो हो सकता है कि डाउनलोड किए गए डेटा में Google खाते से जुड़ी जानकारी न दी जाए.

खोजें
खोज हटाएं
खोज बंद करें
Google ऐप
मुख्य मेन्यू